breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंराजनीति
Trending

किसान पुत्र जगदीप धनखड़ होंगे देश के नए उपराष्ट्रपति

जगदीप धनखड़ को कुल 725 वोटों में से 528 मत मिले, जबकि 15 वोट को अवैध करार दिया गया। वहीं उनके मुकाबले माग्रेट अल्वा को सिर्फ 182 सांसदों का ही वोट मिल पाया।

Farmer’s son Jagdeep Dhankhar will be the new Vice President of the india

नयी दिल्ली (समयधारा) : भारतीय जनता पार्टी (BJP) की अगुआई वाले नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस (NDA) के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) होंगे देश के अगले उपराष्ट्रपति (Vice-President of India) होंगे।

शनिवार 6 अगस्त की शाम में उपराष्ट्रपति चुनाव के नतीजों का ऐलान किया गया,

जिसमें उन्होंने संयुक्त विपक्ष की उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा को 346 मतों से हराकर जीत हासिल की।

जगदीप धनखड़ को कुल 725 वोटों में से 528 मत मिले, जबकि 15 वोट को अवैध करार दिया गया।

Vice Presidential Poll : मोदी-सोनिया-शाह सहित कई सांसदों ने किया मतदान,कुछ ही समय में आ जाएगा रिजल्ट

वहीं उनके मुकाबले माग्रेट अल्वा को सिर्फ 182 सांसदों का ही वोट मिल पाया।

उपराष्ट्रपति चुनाव के नतीजों की जानकारी देते हुए लोकसभा महासचिव उत्पल के. सिंह ने बताया,

उपराष्ट्रपति चुनाव में आज राज्यसभा के निर्वाचित और मनोनीत सदस्यों और लोकसभा के निर्वाचित सदस्यों में से 725 सदस्यों ने वोट डाले।

NDA के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ को 725 मतों में से 528 मत हासिल हुए।

जबकि विपक्षी उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा को 182 वोट मिले।

उन्होंने आगे कहा, जीत के साथ जगदीप धनखड़ भारत के उपराष्ट्रपति पद के लिए निर्वाचित हो गए हैं।

Farmer’s son Jagdeep Dhankhar will be the new Vice President of the india

गृह मंत्री अमित शाह ने जगदीप धनखड़ की जीत पर उन्हें शुभकामनाएं दी।

उन्होंने कहा, किसान पुत्र जगदीप धनखड़ का भारत के उपराष्ट्रपति के रूप में निर्वाचित होना पूरे देश के लिए हर्ष का विषय है।

ED ने यंग इंडिया का दफ्तर किया सील,कांग्रेस का पलटवार-ये महंगाई के मु्द्दे पर कांग्रेस के प्रदर्शन को दबाने के लिए प्रतिशोध

धनखड़ जी अपने लंबे सार्वजनिक जीवन में निरंतर जनता से जुड़े रहे हैं।

जमीनी मुद्दों की बारीकी समझ व उनके अनुभव का उच्च सदन को निश्चित रूप से लाभ मिलेगा।

जीत के लिए 390 से अधिक मतों की आवश्यकता थी। संसद में वर्तमान सदस्यों की मौजूदा संख्या 788 है,

जिनमें से केवल भाजपा के 394 सांसद हैं। ऐसे में आंकड़ों के लिहाज से पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल धनखड़ की जीत पहले से ही तय मानी जा रही थी।

धनखड़ 71 वर्ष के हैं और वह राजस्थान के प्रभावशाली जाट समुदाय से ताल्लुक रखते हैं।

उनकी पृष्ठभूमि समाजवादी रही है। जनता दल (यूनाईटेड), वाईएसआर कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी, अन्नाद्रमुक और शिवसेना ने धनखड़ का समर्थन किया था।

Farmer’s son Jagdeep Dhankhar will be the new Vice President of the india

इससे पहले, 

आज देश के उपराष्ट्रपति के चुनाव संपन्न हुए l

प्रधानमंत्री मोदी सहित अमित शाह, सोनिया गाँधी, मनमोहन सिंह, सहित लगभग सभी सांसदों ने अपने मतदान का उपयोग किया l

Delhi में Monkeypox का खतरा बढ़ा,चौथा केस दर्ज,देशभर में अब मंकीपॉक्स के 9 मरीज

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) और विपक्ष की संयुक्त उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा (Margaret Alva) के बीच मुकाबला है l

जिसमे NDA के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ के जितने की उम्मीद है l अब बस जल्द ही मतगणना पूर्ण हो जायेगी और देश को नया उपराष्ट्रपति मिल जाएगा l 

देश के नए उपराष्ट्रपति (vice president) के चुनाव के लिए आज वोटिंग है।

उपराष्ट्रपति चुनाव (Vice President Election 2022) के लिए संसद भवन में आज सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक वोट डाले जाएंगे।

इसके तुरंत बाद वोटों की गिनती की जाएगी। देर शाम तक निर्वाचन अधिकारी देश के नए उपराष्ट्रपति के नाम का ऐलान कर देंगे।

इस बार मुकाबला राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) और विपक्ष की संयुक्त उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा (Margaret Alva) के बीच है।

71 साल के जगदीप धनखड़ राजस्थान के जाट नेता है। वहीं मार्गरेट अल्वा (80) कांग्रेस की दिग्गज नेता है।

अल्वा राज्स्थान की राज्यपाल भी रह चुकी हैं। वहीं धनखड़ पश्चिम बंगाल के राज्यपाल रह चुके हैं।

RBI Monetary Policy – रेपो रेट 0.50 बढ़ी, शेयर बाजार ऊपर, जाने सभी अपडेट

Farmer’s son Jagdeep Dhankhar will be the new Vice President of the india

आंकड़ों के लिहाज से देखा जाए तो पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल धनखड़ की जीत सुनिश्चित लग रही है।

बता दें कि मौजूदा उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू का कार्यकाल 10 अगस्त को खत्म हो रहा है और उससे पहले उपराष्ट्रपति चुन लिए जाएंगे।”

भारत में उपराष्ट्रपति राज्यसभा के सभापति भी होते हैं। अगर किसी वजह से राष्ट्रपति का पद खाली होता है तो उनकी जिम्मेदारी उपराष्ट्रपति ही संभालते हैं।

 

यानी राष्ट्रपति की अनुपस्थिति में उपराष्ट्रपति को ही सारी जिम्मेदरी संभालनी होती है।

वहीं पद के लिहाज से उप राष्ट्रपति प्रधानमंत्री से भी बड़े माने जाते हैं। ऐसे में जो भी इस पद पर आसीन होते हैं।

उन्हें कई जिम्मेदारियों और कर्तव्यों का पालन करना जरूरी रहता है। चुनाव में सिर्फ लोकसभा और राज्यसभा के सांसद वोटिंग करते हैं।

जो सदस्य मनोनीत होते हैं, उन्हें भी वोट डालने का अधिकार रहता है।

ऐसे में वोटों की कुल संख्या 788 रहती है। इसमें लोकसभा के 543 वोट रहते हैं और राज्यसभा के 243।

CWG 2022-महिलाओं ने फिर दिलाया भारत को गोल्ड, भारत का शानदार प्रदर्शन जारी

किसी को भी उप राष्ट्रपति का चुनव जीतने के लिए कम से कम 394 वोटों की जरूरत पड़ती है।

जो भी इस आंकड़े तक पहुंच जाता है। उसकी जीत सुनिश्चित हो जाती है।

धनखड़ अगर उपराष्ट्रपति चुने जाते हैं, तो यह एक इत्तेफाक ही होगा कि लोकसभा के अध्यक्ष और राज्यसभा के सभापति एक ही राज्य के होंगे।

मौजूदा समय में ओम बिरला लोकसभा अध्यक्ष हैं और वह राजस्थान के कोटा संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button