breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति
Trending

‘मैं एक शहीद का बेटा,शहीदों का अपमान बर्दाश्त नहीं’:जलियांवाला बाग में बदलाव पर बरसे राहुल गांधी

राहुल गांधी ने जलियांवाला बाग (jallianwala bagh) स्मारक के ऐतिहासिक स्वरूप से छेड़छाड़ करने और उसमें बदलाव करने को लेकर आपत्ति जताते हुए केंद्र की मोदी पर निशाना साधा और कहा कि ‘जलियांवाला बाग के शहीदों का ऐसा अपमान वही कर सकता है जो शहादत का मतलब नहीं जानता।’

I-m-A-Martyr’s-Son-Insult-of-martyrs-can-not-tolerate-Rahul-Gandhi-on-Jallianwala-Bagh-memorial-revamp

नई दिल्ली:कांग्रेस नेता(Congress)और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी(Rahul Gandhi)मंगलवार को मोदी सरकार(Modi-govt)के जलियांवाला बाग नवीनीकरण(Jallianwala-Bagh-memorial-revamp) प्रोग्राम पर जमकर बरसे।

राहुल गांधी ने जलियांवाला बाग (jallianwala bagh) स्मारक के ऐतिहासिक स्वरूप से छेड़छाड़ करने और उसमें बदलाव करने को लेकर आपत्ति जताते हुए केंद्र की मोदी पर निशाना साधा और कहा कि ‘जलियांवाला बाग के शहीदों का ऐसा अपमान वही कर सकता है जो शहादत का मतलब नहीं जानता।’

Rajiv Gandhi 77th Birth Anniversary: Bharat Ratna पूर्व PM राजीव गांधी के 77वें जन्मदिवस पर देश कर रहा नमन

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जलियांवाला बाग के पुनर्निर्मित परिसर का उद्घाटन करने के बाद बहुत आलोचना हो रही है।

I-m-A-Martyr’s-Son-Insult-of-martyrs-can-not-tolerate-Rahul-Gandhi-on-Jallianwala-Bagh-memorial-revamp

पीएम ने इसके साथ ही जलियांवाला बाग स्मारक स्थल पर विकसित कुछ संग्रहालय दीर्घाओं का भी उद्घाटन किया।

लंबे समय से बेकार पड़ी और कम इस्तेमाल वाली इमारतों का दोबारा अनुकूल इस्‍तेमाल सुनिश्चित करते हुए चार संग्रहालय दीर्घाएं बनाई गई हैं।

कृषि कानून के विरोध में किसान संदेश के साथ राहुल गांधी का ट्रैक्टर मार्च

पुनर्निर्मित परिसर पर आपत्ति जताते हुए राहुल गांधी ने कहा- ‘जलियांवाला बाग के शहीदों का ऐसा अपमान वही कर सकता है जो शहादत का मतलब नहीं जानता।  मैं एक शहीद का बेटा हूं- शहीदों का अपमान किसी कीमत पर सहन नहीं करूंगा. हम इस अभद्र क्रूरता के खिलाफ हैं।’

I-m-A-Martyr’s-Son-Insult-of-martyrs-can-not-tolerate-Rahul-Gandhi-on-Jallianwala-Bagh-memorial-revamp

राहुल गांधी से पहले इतिहासकार इरफान हबीब ने भी जलियांवाला बाग में बदलाव को लेकर आपत्ति जताते हुए कहा कि – ‘यह स्मारकों का निगमीकरण है।

आधुनिक संरचनाओं के नाम पर यह अपना असली मूल्य खो रहे हैं।’

वाम दल के नेता सीताराम येचुरी ने कहा- ‘यह हमारे शहीदों का अपमान है।

बैसाखी के लिए इकट्ठा हुए हिंदू, मुस्लिम, सिखों के जलियांवाला बाग हत्याकांड ने हमारे स्वतंत्रता संग्राम को गति दी। जो लोग स्वतंत्रता संग्राम से दूर रहे वही ऐसा काम कर सकते हैं।’

संत बाबा राम सिंह जी की आत्महत्या पर राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना

कांग्रेस नेता हसीबा ने प्रधानमंत्री मोदी के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा- ‘जलियांवाला बाग हत्याकांड में जश्न जैसी क्या चीज है, जहां लाइट और साउंड की जरूरत हो? लेकिन मेरा मानना है कि जिन लोगों ने अंग्रेजों से सांठ-गांठ की हो, वह इन दिनों की भयावहता को कैसे समझेंगे।’

I-m-A-Martyr’s-Son-Insult-of-martyrs-can-not-tolerate-Rahul-Gandhi-on-Jallianwala-Bagh-memorial-revamp
अमरिंदर सिंह ने कहा-जलियांवाला बाग स्मारक युवाओं के लिए प्रेरणा का प्रतीक
उधर, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि पुनरुद्धार किया गया जलियांवाला बाग स्मारक ‘शहीदों को श्रद्धांजलि है और युवाओं के लिए प्रेरणा का प्रतीक है।’
उन्होंने कहा कि यह स्मारक आगामी पीढ़ियों को शांतिपूर्ण और लोकतांत्रिक तरीके से विरोध प्रदर्शन करने के लोगों के अधिकार की याद दिलाता रहेगा।
बदलाव के बारे में PMO के अनुसार जालियांवाला बाग में 13 अप्रैल, 1919 को घटित विभिन्‍न घटनाओं को दर्शाने के लिए एक साउंड एंड लाइट शो की व्‍यवस्‍था की गई है।
पीएमओ के अनुसार इस बाग का केंद्रीय स्‍थल माने जाने वाले ‘ज्वाला स्मारक’ की मरम्मत करने के साथ-साथ इसका पुनर्निर्माण किया गया है और वहां स्थित तालाब को एक ‘लिली तालाब’ के रूप में फिर से विकसित किया गया है तथा लोगों को आने-जाने में सुविधा के लिए यहां स्थित मार्गों को चौड़ा किया गया है।
I-m-A-Martyr’s-Son-Insult-of-martyrs-can-not-tolerate-Rahul-Gandhi-on-Jallianwala-Bagh-memorial-revamp
(इनपुट एजेंसी से भी)

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × four =

Back to top button