breaking_newsअन्य ताजा खबरेंचटपट चुटकले और शायरीदिल की बात
Trending

शायरी : आस एक झूठी ही दे जाओ कि बहला सकूँ उसे, आँगन में शाम तो आयेगी तेरे जाने के बाद भी..!!

रिश्तों की दलदल से कैसे निकलेंगे... जब हर साजिश के पीछे अपने ही निकलेंगे...

aangan shayri hindi shayaris india ki sayari

आस एक झूठी ही दे जाओ

कि बहला सकूँ उसे….

आँगन में शाम तो आयेगी

तेरे जाने के बाद भी..!!

dhokebaz shayri dhokh shayaris risto ki shayari corona shayris sayaris izzat shayaris, धोखेबाज शायरी : रिश्तों की दलदल से कैसे निकलेंगे...जब हर साजिश के पीछे अपने ही निकलेंगे.
धोखेबाज शायरी : रिश्तों की दलदल से कैसे निकलेंगे…जब हर साजिश के पीछे अपने ही निकलेंगे.

रिश्तों की दलदल से कैसे

निकलेंगे…

जब हर साजिश के पीछे अपने ही

निकलेंगे…

इश्क़ शायरी : दिवाना हर शख़्स को बना देता है इश्क़, सैर जन्नत की करा देता है इश्क़

दूरियाँ
तो पहले ही आ चुकी थी ज़माने में 

कोरोना ने आकर
इल्ज़ाम अपने सर ले लिया 

दिलवालें शायर की शायरी : मेरे दिल को अगर तेरा एहसास नहीं होता…

मँज़िले बड़ी ज़िद्दी होती हैँ ,

हासिल कहाँ नसीब से होती हैं !

मगर वहाँ तूफान भी हार जाते हैं ,

जहाँ कश्तियाँ ज़िद पर होती हैँ !

ईद मुबारक (Eid Mubarak) : भेजें अपनों को ईद पर यह मीठी-मीठी शायरी-इमेज

यह शायरियां भी पढ़े :

कोरोना शायरी : ये कैसा समय आया कि,  दूरिया ही दवा बन गई… 

दिलवालें शायर की शायरी : मेरे दिल को अगर तेरा एहसास नहीं होता…

इश्क़ शायरी : दिवाना हर शख़्स को बना देता है इश्क़, सैर जन्नत की करा देता है इश्क़

Happy Mother’s Day 2021 : दूर होकर भी पास है, माँ …..भेजें ऐसी ही Wishes

Hindi Shayari : न मैं गिरा और न मेरी उम्मीदों के मीनार गिरे..!

दारुबाजों की शायरी : रोक दो मेरे जनाजे को, अब मुझमे जान आ रही हैं…

कोरोना शायरी : ये कैसा समय आया कि,  दूरिया ही दवा बन गई… 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − thirteen =

Back to top button