breaking_newsअन्य ताजा खबरेंटेक न्यूजटेक्नोलॉजी
Trending

Google ने Happy Winter 2019 Doodle बना किया साल के सबसे छोटे दिन का स्वागत

आज 22 दिसंबर का दिन साल का सबसे छोटा दिन विंटर सोलस्टाइस (संक्रांति) पुकारा जाता है

नई दिल्ली: Google celebrating Happy Winter Solstice 2019 with Doodle– सर्दी अब पूरी तरह अपने चरम पर है और ऐसे में गूगल (Google) भला इसका स्वागत किए बिना कैसे रह सकता है।

इसलिए गूगल ने अपना आज का डूडल हैप्पी विंटर 2019 (Happy Winter 2019) कहते हुए बनाया है और सर्दियों का स्वागत किया है। गूगल का आज का डूडल विंटर सोलेस्टाइस 2019 को सेलिब्रेट कर रहा (Google celebrating Happy Winter Solstice 2019 with Doodle) है।

google-celebrating-happy-winter-solstice-2019-with-doodle-the-shortest-day

दरअसल, आज 22 दिसंबर का दिन साल का सबसे छोटा दिन विंटर सोलस्टाइस (संक्रांति) पुकारा जाता (Google celebrating Happy Winter Solstice 2019 with Doodle) है। आज ही सर्दियों में वो खास दिन है जबकि दिन छोटा और रात लंबी होती है।

गौरतलब है कि गूगल डूडल (Google Doodle) ने विंटर की कड़कड़ाती ठंड को खास डूडल बनाकर रोमांचक बना दिया है।

विंटर सोलस्टाइस (Winter Solstice )के दिन धरती सूरज से काफी दूर रहती है और चंद्रमा की रोशनी आज के दिन ज्यादा समय तक पड़ती है।

विंटर सोलस्टाइस के दिन को चीन में Dongzhi Festival के रूप में मनाया जाता है। इस पर्व पर यहां पर लोग राइस बॉल्स खाते है और इस खास दिन को धूमधाम से सेलिब्रेट करते है। वैसे विंटर सोलस्टाइस को मनाने की वजह अलग-अलग है।

Google ब्लॉग के अनुसार, उत्तरी गोलार्ध में शीतकालीन रविवार, 22 दिसंबर 2019 से शुरू होगा और शुक्रवार 20 मार्च 2020 को समाप्त होगा।

विश्वभर में सदियों से लोग इस खगोलीय घटना को सेलिब्रेट करते आ रहे है। दुनिया भर में, शीतकालीन संक्रांति कई मायनों में मनाई जाती है।

यहूदियों के लिए, शीतकालीन संक्रांति को ‘Tekufat Tevet’ कहा जाता है, जो सर्दियों की शुरुआत का प्रतीक है।

जबकि मिस्रियों ने मध्य-सर्दियों के दौरान 12 दिनों के लिए आइसिस (दिव्य माँ देवी) के पुत्र होरस का जन्म मनाया।

चीन में, शीतकालीन संक्रांति एक विशेष भोजन खाने के लिए एक साथ आने वाले परिवारों के द्वारा मनाई जाती है

यूरोप में पैगंबरों (ईसाई धर्म से पहले) ने संक्रांति को सर्दियों की शुरुआत के रूप में मनाया और इससे पहले कि त्यौहार के मौके पर बर्फ गिरे और ज्यादातर लोगों को घर के अंदर जाने के लिए मजबूर होना पड़ा।

भारत में, शीतकालीन संक्रांति 22 दिसंबर को सुबह 3.53 बजे शुरू हुई और इसे धार्मिक समारोहों और इन समारोहों के एक मेजबान द्वारा चिह्नित किया जाएगा।

दरअसल, सोलस्टाइस एक लैटिन शब्द है और इसका अर्थ है- ‘सूरज स्थिर’ है।

आज के दिन सूर्य कैप्रिकॉन सर्कल में पहुंचता है और 25 दिसंबर के बाद दिन धीरे-धीरे बड़े होने लगते है।  

जानें आज के दिन को क्यों कहते हैं विंटर सोलस्टाइस (Winter Solstice)

आज के दिन चंद्रमा की किरणें धरती पर काफी देर तक रहेगी और सूर्य वक्त से पहले ढ़ल जाएगा। आज के दिन से दिन छोटे और रातें बड़ी हो जाती है।

आज के दिन को सर्वाधिक ठंडा दिवस भी माना जाता है। इसलिए मूल रूप से सर्दियों (Winter) की शुरूआत आज से ही मानी जाती है।

इस दिन का धार्मिक महत्व भी है। मान्यता है कि तकरीबन 1700 साल पहले आज के ही दिन मकर संक्रांति मनाई जाती थी

वर्ष के इस समय में, प्रत्येक दिन लगभग 24 घंटे, 30 सेकंड लंबा होता है। इसका कारण यह है कि पृथ्वी अपनी अण्डाकार कक्षा में सूर्य के निकटतम बिंदु के पास होती है।

Google celebrating Happy Winter Solstice 2019 with Doodle

Show More

Reena Arya

रीना आर्य www.samaydhara.com की फाउंडर और एडिटर-इन-चीफ है। रीना आर्य ने पत्रकारिता के महज 6-7 साल के भीतर ही अपने काम के दम पर न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपनी पहचान बनाई बल्कि तमाम चुनौतियों और पारिवारिक जिम्मेदारियों को निभाते हुए समयधारा.कॉम की नींंव रखी। हर मुद्दे पर अपनी ज्वलंत और बेबाक राय रखने वाली रीना आर्य एक पत्रकार, कंटेंट राइटर,एंकर और एडिटर की भूमिका निभा चुकी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eight − six =

Back to top button