breaking_newsअन्य ताजा खबरेंघरेलू नुस्खेलाइफस्टाइलहेल्थ
Trending

क्या आप भी कान के दर्द से है परेशान? इन घरेलू नुस्खों से मिलेगा आराम

सही समय पर कान के इन्फेक्शन का इलाज न किया जाए, तो इससे कान में कई तरह के रोग पैदा हो सकते हैं। इससे बहरापन भी हो सकता है। कानों में हो रहा किसी भी तरह का बैक्टीरियल इन्फेक्शन सिर्फ बड़ों को ही नहीं, बच्चो को भी हो सकता है।

Ear-infection-treatment-causes-symptoms-ear-infection-home-remedies

क्या आप भी कान के दर्द(Ear Pain)से परेशान रहते है? अगर हां तो इसका कारण इंफेक्शन(Ear Infection) हो सकता है। दरअसल,कान हमारे शरीर के सबसे नाज़ुक अंगों में से एक है जिसका ध्यान रखना बहुत ज़रूरी है।

कान में इन्फेक्शन होने का ज्यादातर कारण म्यूकस युक्त तरल के जमाव की वजह से होता है,क्योंकि यह काफी नाजुक हिस्सा(Ear-infection-treatment-causes-symptoms-ear-infection-home-remedies)है।

ऐसे में यदि सही समय पर कान के इन्फेक्शन का इलाज न किया जाए, तो इससे कान में कई तरह के रोग पैदा हो सकते हैं।

इससे बहरापन भी हो सकता है। कानों में हो रहा किसी भी तरह का बैक्टीरियल इन्फेक्शन सिर्फ बड़ों को ही(ear infection treatment adults)नहीं, बच्चो को भी हो सकता है।

 

 

क्या आप भी बार-बार पेशाब करने से है परेशान? ये घरेलू नुस्खें दिलाएंगे आराम

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

इसलिए जरूरी है कि पहले आप जान लें कि कान में इंफेक्शन आखिर होता किन कारणों से है:Ear-infection-causes

-कान में ज्यादा समय तक मैल भरे रहना ।

-कान में ठंड लग जाना।

-किसी तरल प्रदार्थ का कान में चले जानना ।

-कानों में फोड़े व फुंसी हो जाना।

-कीड़े या मच्छर का कान में चले जाना।

-कान में चोट लगना।

-तेज़ आवाज़ में टीवी देखना या गाने सुनना |

-बच्चे जब लेटकर दूध पीते हैं तब कान में दूध जाने की संभावना हो जाती है। ये भी इंफेक्शन का एक कारण बन जाता है। 

-पोषक तत्वों की कमी के कारण भी कानों की समस्या हो सकता है।

कान में दर्द या इंफेक्शन होने पर वैसे तो विशेषज्ञ को दिखाना ही बेहतर है लेकिन फौरी राहत के लिए आप कान में दर्द का घर बैठे भी इलाज कर सकते(Ear-infection-treatment)है।

इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे बताने जा रहे है जिनकी मदद से आप कान के दर्द से राहत पा (ear-infection-home-remedies)सकते है।

Ear-infection-treatment-causes-symptoms-ear-infection-home-remedies

 

 

क्या आपके घुटनों में भी चलते-फिरते,बैठते-उठते रहता है दर्द?खाने में शामिल करें ये healthy food chart

 

 

 

 

 

 

 

 

 

कान में दर्द या इंफेक्शन के घरेलू नुस्खे-Ear-infection-treatment-ear-infection-home-remedies

लहसुन- कान के दर्द के लिए लहसुन का तेल तैयार करना बहुत आसान है। सबसे पहले एक पैन में दो चम्मच तेल गरम करके उसमें तीन से चार कलियाँ लहसुन की डाल दें।

इसके बाद लहसुन की कलियाँ जब तक हल्की भूरी न हो जाएँ, तब तक उसे पकने दें। फिर उसे ठंडा होने के लिए रख दें और ठंडा होने पर दो बूंद कान में डालने से जल्द आराम मिलेगा।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

गर्म पानी की सिकाई- एक बर्तन में हल्का गुनगुना पानी कर लें फिर उसमें एक सूती कपडा भिगो कर उसका पानी निचोड़ लें।

अब इस कपडे को अपने कान के पास रख कर अच्छे से सिकाई करें और इस बात का ध्यान ज़रूर दें की पानी कान में न जाये , नहीं तो दिक्कत ओर भी बढ़ सकती है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

टी -ट्री आयल- यदि कान में बैक्टीरियल इन्फेक्शन हो गया है तो टी-ट्री आयल बहुत फ़ायदेमंनद रास्ता है इस बीमारी का | इसके लिए एक चम्मच में दो बून्द टी-ट्री आयल, दो बूँद जैतून का तेल मिलकर इससे अपने कानो में डाल लें  और कुछ देर बाद अपने कान को अच्छे से साफ़ कर लें।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

तुलसी के पत्ते-तुलसी(Tulsi)में प्राकृतिक एंटीबायोटिक होते है। इसीलिए इसका प्रयोग कानों के संक्रमण के उपचार में भी कर सकते हैं। आप थोड़े से तुलसी के पत्ते लेकर और उन्हें  पीसकर उनका रस निकाल लें।

अब आप इस रस को कान के पास में लगाएं। परन्तु इस बात का ध्यान ज़रूर दें की  तुलसी का रस कानों के अंदर ना जाए। इसे आप दिन में दो बार करें। इससे कान का संक्रमण खत्म हो जाता है| और आपको दर्द से राहत मिलेगी।

 

 

घरेलू वियाग्रा से बनो किसी भी उम्र में ताकतवर-शक्तिशाली-फौलादी

 

 

 

 

 

 

 

 

नोट: ऊपर दी गई जानकारी सामान्य प्रचलित ज्ञान पर आधारित है। जो किसी भी तरह से किसी योग्य चिकित्सा का विकल्प नहीं हो सकती। अपनी समस्या के लिए हमेशा संबंधित विशेषज्ञ से ही संपर्क करें। समयधारा इस जानकारी की सटीकता को प्रमाणित नहीं करता।

 

 

Ear-infection-treatment-causes-symptoms-ear-infection-home-remedies

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button