breaking_newsअन्य ताजा खबरेंकानून की कलम सेकानूनी सलाहदेशदेश की अन्य ताजा खबरें
Trending

सुप्रीम कोर्ट ने आर्य समाज के विवाह प्रमाणपत्र को कानूनी मान्यता देने से इंकार किया

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को आर्य समाज विवाह प्रमाणपत्र को अवैध करार दिया है। 

Supreme-Court-denied-Arya-Samajs-marriage-certificate-legal-recognition

नई दिल्ली:सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को आर्य समाज विवाह प्रमाणपत्र को अवैध करार दिया है। 

आर्य समाज(Arya Samaj)की ओर से जारी विवाह प्रमाणपत्र (Marriage Certificate) को सुप्रीम कोर्ट ने कानूनी मान्यता देने से इंकार(Supreme Court) कर दिया(Supreme-Court-denied-Arya-Samajs-marriage-certificate-legal-recognition)है।

यह फैसला एक केस की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने दिया।

जस्टिस अजय रस्तोगी और जस्टिस बी वी नागरत्ना की पीठ ने कहा कि आर्य समाज का काम विवाह प्रमाणपत्र जारी करना नहीं(Supreme-Court-denied-Arya-Samajs-marriage-certificate-legal-recognition)है।

हिंदू उत्तराधिकार कानून क्या महिलाओं से करता है भेदभाव? सुुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से तलब किया जवाब

विवाह प्रमाणपत्र जारी करने का ये काम तो सक्षम प्राधिकरण ही करते हैं। कोर्ट के सामने असली प्रमाणपत्र प्रस्तुत किया जाए।

दरअसल,यह मामला एक लव मैरिज से जुड़ा है। जिसमें लड़की के घरवालों ने नाबालिग बताते हुए अपनी लड़की के अपहरण और रेप की एफआईआर दर्ज करा रखी है।

जबकि युवक का कहना था कि लड़की बालिग है। उसने अपनी मर्जी और अधिकार से विवाह का फैसला किया है. आर्य समाज मंदिर में विवाह हुआ है।

युवक ने मध्य भारतीय आर्य प्रतिनिधि सभा की ओर से जारी विवाह प्रमाण पत्र (Arya-Samajs-marriage-certificate)भी कोर्ट में पेश किया।

आपके कुछ करने तक तो,तीसरी लहर भी बीत चुकी होगी-कोरोना से मौत पर मुआवजा देने की नीति न बनाने पर सुप्रीम कोर्ट की केंद्र को फटकार

लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इसे मानने से इंकार कर दिया। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट(Supreme Court)ने अप्रैल में मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करने को हामी भर दी थी।

तब जस्टिस केएम जोसेफ और जस्टिस हृषिकेश रॉय की बेंच ने हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी थी।

हाईकोर्ट ने आर्य प्रतिनिधि सभा से स्पेशल मैरिज एक्ट 1954 की धाराओं 5, 6, 7 और 8 प्रावधानों को अपनी गाइड लाइन में एक महीने के भीतर शामिल करने को कहा था।

 

बड़ी जीत! सुप्रीम फैसला-अब महिलाएं दे सकेंगी NDA की प्रवेश परीक्षा,सेना को लताड़

 

Supreme-Court-denied-Arya-Samajs-marriage-certificate-legal-recognition

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button