breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंफैशनलाइफस्टाइल
Trending

भूल कर भी न करें गणपति बाप्पा की स्थापना/पूजा के दौरान यह गलतियां…! नहीं तो..?

गणपति जी रुष्ट तो लक्ष्मी जी खफा,इसलिए बरतें गणपति स्थापना-पूजा आदि के दौरान यह सावधानियां

ganesh-chaturthi-special-not-commit-these-mistakes-during-the-worship- of-Ganapati

नई दिल्ली (समयधारा):इस माह की 10 सितंबर को देशभर में गणेश उत्सव(Ganeshotsav)मनाया जा रहा है। इस दिन हर कोई भगवान गणेश की आवभगत में व्यस्त रहेगा।

हर कोई गणपति जी(Ganpati)को प्रसन्न करना चाहता है ताकि उनके घर के दुख दूर हों और गणपति जी की कृपा हमेशा उन पर बरसती रहे।

लेकिन क्या आप जानते हैं गणपति(Ganesh)की पूजा के वक्त बहुत सावधानियां बरती चाहिए।

आपकी एक छोटी सी गलती अर्थ का अनर्थ कर सकती है। ऐसा माना जाता है कि गणपति की पूजा में कुछ भी गलत नहीं होना चाहिए।

Ganesh Chaturthi 2021:10 सितंबर है गणेश चतुर्थी,इस शुभ मुहूर्त में गणपति लाएं घर

Ganesh Chaturthi 2021:10 सितंबर है गणेश चतुर्थी,इस शुभ मुहूर्त में गणपति लाएं घर

यदि ऐसा होता है तो लक्ष्मी रूठ जाती है और आप गणपति जी को भी कष्ट पहुंचाते हैं।

चलिए जानते हैं गणपति की पूजा वे कौन सी गलतियां हैं जो लक्ष्मी‍ को घर में आने से रोकती हैं।

गणेश चतुर्थी(ganesh-chaturthi)के दिन यदि आपने गणपति जी की स्थापना घर में की है तो उस दिन चांद के दर्शन बिल्कुल ना करें।

इस बार 10 सितंबर को रात 9 बजकर 5 मिनट तक चांद को बिल्कुल भी ना देखें।

ganesh-chaturthi-special-not-commit-these-mistakes-during-the-worship- of-Ganapati

कहते हैं ऐसा करने पर आपकी द्वारा की गई पूजा व्यर्थ हो जाती है और लक्ष्मी रूठ जाती है।

गणेश चतुर्थी पर पढ़े यह चमत्कारी-अलौकिक-शक्तिशाली मंत्र, छप्पर फाड़ बरसेगा धन

गणेश चतुर्थी पर पढ़े यह चमत्कारी-अलौकिक-शक्तिशाली मंत्र, छप्पर फाड़ बरसेगा धन

गणपति बप्पा की पीठ के कभी भी दर्शन ना करें। चाहे कुछ भी हो जाएं उनकी पीठ को नहीं देखना चाहिए।

प्राचीन ग्रंथों के अनुसार, गणपति बप्पा की पीठ पर दरिद्रता बसती है।

ये भी कहा जाता है जो भी गणपति बप्पा की पीठ के दर्शन कर लेता है उसके घर में भी दरिद्रता का वास हो जाता है।

ऐसा माना जाता है कि यदि आप जाने-अनजाने में गणपति जी की पीठ के दर्शन कर लेते हैं,

गणेश चतुर्थी : जानियें गणपति की स्थापना को क्यों माना जाता है खुशहाली का प्रतिक

गणेश चतुर्थी : जानियें गणपति की स्थापना को क्यों माना जाता है खुशहाली का प्रतिक

तो आपको उनसे क्षमा याचना मांगनी चाहिए और लक्ष्मी जी को भी मनाना चाहिए।

ऐसा माना जाता है कि एक ही घर में दो भगवानों की दो प्रतिमा होना शुभ नहीं है।

यदि आप घर में गणपति जी की स्थापना की योजना बना रहे हैं तो गणपति जी की पुरानी प्रतिमा को पहले विर्सजित करके आ जाएं।

Hartalika Teej 2021:हरतालिका तीज का व्रत अगर रख रही है पहली बार,इन नियमों का रखें ध्यान

ganesh-chaturthi-special-not-commit-these-mistakes-during-the-worship- of-Ganapati

यदि आप ऐसा नहीं करते तो लक्ष्मी जी के घर में आगमन होने में बाधा होती है

क्या आप जानते हैं गणपति जी की प्रतिमा लेते समय सबसे पहले गणपति जी की सूंढ देखी जाती है कि किस तरफ है।

गणेशोत्सव 2021 पर फिर कोरोना की मार,2/4 फुट से ज्यादा ऊंची मूर्ति नहीं

गणेशोत्सव 2021 पर फिर कोरोना की मार,2/4 फुट से ज्यादा ऊंची मूर्ति नहीं

जी हां, यदि आप बाई तरफ की सूंढ वाली प्रतिमा लेते हैं तो आपके घर में लक्ष्मी का प्रवेश धीमा होता है।

लेकिन दाईं सूंढ वाली प्रतिमा को सबसे अच्छा माना जाता है।

यदि आप दाई सूंढ वाली प्रतिमा को घर में लाएंगे तो लक्ष्मी जी(Laxami) का आगमन घर में शीघ्र होने लगता है।

यदि आप गणपति जी की स्थापना घर में कर रहे हैं तो आपको गणपति जी की प्रतिमा और पूजा साम्रगी से तुलसी को दूर रखना चाहिए।

Ganesha Chaturthi Guidelines : जाने कोरोना गणेशोत्सव गाइडलाइंस व विसर्जन की सभी जानकारी

ganesh-chaturthi-special-not-commit-these-mistakes-during-the-worship- of-Ganapati

दरअसल, तुलसी और गणपति जी को लेकर प्राचीन ग्रंथों में कहावत है कि तुलसी गणेश जी से विवाह करने की इच्छुक थी,

ऐसा ना होने पर तुलसी ने गणेश जी को श्राप दे दिया था कि तुम्हारी दो शादियां होंगी तो ऐसे में गणपति जी ने तुलसी को असुर से शादी का श्राप दिया था।

ऐसा माना जाता है कि गणपति जी के सामने तुलसी(Tulsi)आने से वे रूष्ट हो जाते हैं और गणपति जी रूष्ट हुए तो लक्ष्मी भी ऐसे घर से नाता तोड़ लेती हैं।

Bank holidays September:सितंबर में कितने दिन बैंकों में रहेंगी छुट्टियां,देखें ये लिस्ट

 

ganesh-chaturthi-special-not-commit-these-mistakes-during-the-worship- of-Ganapati

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 4 =

Back to top button