breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीतिक खबरेंविश्वहेल्थ
Trending

उम्मीद है Covaxin को WHO से मिल जाएगी मंजूरी: भारत बायोटेक

Covaxin को अभी तक अमेरिका, कनाडा, ऑस्‍ट्रेलिया, आयरलैंड और यूरोपीय यूनियन ने कोवैक्‍सीन को आपात इस्तेमाल की सूची (ईयूएल) में नहीं रखा है...

Covaxin expected to get approval from WHO: Bharat Biotech

नई दिल्ली:कोरोना की दूसरी लहर ने देश में घातक रुप अख्तियार कर लिया है। विश्व में भी कोविड-19(COVID-19) आतंक मचाएं हुए है।लेकिन इसी बीच राहत की खबर यह है कि देश औैर विदेशों में कोरोना वैक्सीनेशन(Corona vaccination) शुरू हो चुका है।

इसलिए विश्वभर के देश अपने यहां अब टूरिज्म और ट्रैवल एरिया खोलने की प्लानिंग कर रहे है।

हमारे देश में भी कोविशील्ड (Covishield) के साथ-साथ भारत बायोटेक(Bharat Biotech)

और ICMR की पार्टनरशिप से तैयार हुई कोविड-19 वैक्सीन कोवैक्सीन(Covaxin) का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल हो रहा है।

लेकिन इस वैक्सीन के आपात इस्तेमाल को अभी तक डब्ल्यूएचओ(WHO) से मंजूरी नहीं मिली है।

हालांकि सूत्रों के अनुसार, Covaxin के निर्माता भारत बायोटेक को उम्मीद है कि WHO कोवैक्सीन को आपात  इस्तेमाल की सूची में सूचीबद्ध कर लेगा।

Covaxin expected to get approval from WHO: Bharat Biotech

चूंकि विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) में अभी भी Covaxin को लेकर कुछ ‘संशय’ है।

WHO stopped trial of anti malarial drug Hydroxychloroquine for treat coronavirus

Covaxin को अभी तक अमेरिका, कनाडा, ऑस्‍ट्रेलिया, आयरलैंड और यूरोपीय यूनियन ने कोवैक्‍सीन को आपात इस्तेमाल की सूची (ईयूएल) में नहीं रखा है।

‘सूत्रों के अनुसार, भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड (BBIL) ने सरकार को सूचित किया है कि उसने कोवैक्सीन से जुड़े 90 प्रतिशत दस्तावेज पहले ही WHO में जमा करा दिए हैं ताकि आपात इस्तेमाल की सूची (ईयूएल) में टीके को सूचीबद्ध कराया जा सके।

सूत्र बताते हैं क‍ि कोवैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) से आपात इस्तेमाल सूची में सूचीबद्ध कराने के लिए सरकार के साथ हुई चर्चा में हैदराबाद की कंपनी भारत बायोटेक लिमिटेड ने बताया कि बाकी बचे दस्तावेजों के जून तक जमा कराए जाने की उम्मीद है।

Covaxin expected to get approval from WHO: Bharat Biotech

सूत्रों ने बताया, ‘‘बीबीआईएल डब्ल्यूएचओ की आपात इस्तेमाल सूची में कोवैक्सीन के सूचीबद्ध होने को लेकर आश्वस्त है।”

उन्होंने बताया कि किसी भी देश ने ‘टीका पासपोर्ट’ लागू नहीं किया है और दुनिया के विभिन्न देशों की मंजूरी की अपनी व्यवस्था है,

अधिकतर मामलों में यात्रा के दौरान आरटी-पीसीआर जांच में कोविड-19 नेगेटिव होने के प्रमाणपत्र की जरूत है। उन्होंने बताया कि कोवैक्सीन को पहले ही 11 देशों से नियामकीय मंजूरी मिल चुकी है।

सूत्रों ने बताया कि सात देशों की 11 कंपनियों ने कोवैक्सीन के उत्पादन के लिए प्रौद्योगिकी हस्तांतरण में रुचि दिखाई है।

उन्होंने बताया कि अमेरिका में छोटे पैमाने पर कोवैक्सीन के तीसरे चरण के चिकित्सीय परीक्षण के लिए अमेरिका के खाद्य एवं औषधि प्रशासन (यूएएफडीए) से वार्ता अंतिम दौर में है।

सूत्रों ने बताया कि बीबीआईएल ब्राजील और हंगरी में कोवैक्सीन की नियामकीय मंजूरी हेतु जरूरी दस्तावेजों को जमा कराने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है।

उन्होंने बताया कि बीबीआईएल की ईयूएल को लेकर सरकार के साथ हुई बैठक में कंपनी के प्रबंध निदेशक वी. कृष्णा मोहन और उनके सहयोगियों के साथ स्वास्थ्य मंत्रालय, जैव प्रौद्योगिकी विभाग और विदेश मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए।

सूत्रों के मुताबिक बैठक में शमिल होने वालों में विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला भी थे।

 

 

Covaxin expected to get approval from WHO: Bharat Biotech

(इनपुट एजेंसी से भी)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nine + 20 =

Back to top button