breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूजहेल्थ
Trending

Covaxin राज्यों को 600 तो प्राइवेट हॉस्पिटल को 1200 रूपए में, Covishield 400 और 600 में

राज्य सरकारों को एक डोज वैक्सीन के लिए सिर्फ 600 रुपए चुकाने होंगे, वही भारत बायोटेक ने 24 अप्रैल को ऐलान किया कि प्राइवेट अस्पतालों को कोवैक्सीन की एक डोज 1200 रुपए में मिलेगी,

bharat biotech covaxin cost for states rs600 and for private hospitals rs1200 in phase 3

नई दिल्ली (समयधारा) : देशभर में कोरोना का ग्राफ बढ़ता ही जा रहा हैl ऐसे में देश के लोगों को वैक्सीनेशन की काफी जरुरत है l 

इसी के मद्देनजर 1 अप्रैल से 18 साल से ऊपर के लोगों को भी वैक्सीन लगेगी l जिसके चलते भारत बायोटेक ने भी अपनी वैक्सीन के दामों का खुलासा किया l 

कंपनी ने एक बयान में कहा कि  कोवैक्सीन (Covaxin) राज्य सरकारों को एक डोज वैक्सीन के लिए सिर्फ 600 रुपए चुकाने होंगे,

वही भारत बायोटेक ने 24 अप्रैल को ऐलान किया कि प्राइवेट अस्पतालों को कोवैक्सीन की एक डोज 1200 रुपए में मिलेगी l  

कंपनी ने बताया कि Covaxin का निर्यात भी किया जाएगा।

निर्यात की जाने वाली वैक्सीन की कीमत 15 से 20 डॉलर (1,123-1498 रुपए) प्रति डोज होगी।

bharat biotech covaxin cost for states rs600 and for private hospitals rs1200 in phase 3

हैदराबाद की दवा कंपनी भारत बायोटेक ने कहा कि दुनिया भर में कोरोनावायरस संक्रमण से मची तबाही को लेकर वह बेहद चिंतित है। 

कंपनी ने कहा है, “भारत बायोटेक को भारत में कोवैक्सीन प्रोडक्शन करने और 150 रुपए प्रति डोज के हिसाब से डिस्ट्रीब्यूट करने का सम्मान मिला।

भारत सरकार को ये वैक्सीन मुफ्त दी जा रही हैं। हम यह बताना चाहेंगे कि हमारी कुल क्षमता का 50 फीसदी वैक्सीन केंद्र सरकार के लिए रिजर्व है।”

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने 21 अप्रैल को कोरोनावायरस की वैक्सीन Covishield की कीमत तय कर दी है।

कंपनी अब ये दवाएं सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों को बेच पाएगी। राज्य सरकारें 400 रुपए प्रति डोज के हिसाब से ये दवा खरीद पाएंगी।

जबकि प्राइवेट अस्पतालों में एक डोज वैक्सीन के लिए 600 रुपए चुकाने होंगे।

bharat biotech covaxin cost for states rs600 and for private hospitals rs1200 in phase 3

सीरम इंस्टीट्यूट ने बताया कि वैक्सीन के कुल प्रोडक्शन का 50 फीसदी भारत सरकार के वैक्सीनेशन प्रोग्राम में इस्तेमाल किया जाएगा।

बाकी का 50 फीसदी सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों को दिया जाएगा।

कंपनी की तरफ से जारी बयान में कहा गया है, “अगले दो महीनों में हम प्रोडक्शन बढ़ाकर वैक्सीन की कमी की भरपाई करेंगे।”

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 − 12 =

Back to top button