breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबीमारियां व इलाजहेल्थ
Trending

कोरोना मौतों को लेकर केंद्र सरकार ने की गाइडलाइंस जारी, अब…

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने 3 सितंबर कोरोना वायरस से हुई मौत के लिए गाइडलाइंस जारी कर दिए हैं

Central government issued guidelines regarding corona death

नई दिल्ली (समयधारा) :  देश भर में आनेवाली तीसरी कोरोना लहर के कहर के बीच केंद्र सरकार ने एक महत्वपूर्ण फैसला लिया l 

सरकार ने कोरोना मौत (Corona Death) को लेकर गाइडलाइन्स जारी की है l   

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Health Ministry) और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (Indian Council of Medical Research) ने 3 सितंबर कोरोना वायरस से हुई मौत के लिए गाइडलाइंस जारी कर दिए हैं।

बाप रे बाप..! आधे से ज्यादा लोग रोजाना नहीं बदलते अंडरगारमेंट्स

इसके तहत रिपोर्ट पॉजिटिव आने के 30 दिन के भीतर अगर कोरोना संक्रमित मरीज की मौत हो जाती है तो उसे कोविड डेथ माना जाएगा।

भले ही मरीज की मौत अस्पताल में हुई हो या फिर अस्पताल के बाहर।

इसके अलावा अगर किसी मरीज की मौत 30 दिन के बाद होती है, तो भी उसे गाइडलाइंस के तहत कोविड डेथ माना जाएगा।

गाइडलाइंस के मुताबिक, RTPCR, मॉलिक्यूलर, रैपिड एंटीजन या किसी दूसरे टेस्ट से कोरोना संक्रमण का पता चलता है तो उसे कोविड केस माना जाएगा।

शौहर-बीवी जोक्स : चंद शौहर अपनी बीवियों को बेपनाह चाहते हैं, बाकी तो सब पनाह चाहते हैं..

सरकार ने कहा है कि ICMR की स्टडी में सामने आया है कि 95 फीसदी मौतें रिपोर्ट पॉजिटिव आने के 25 दिन के भीतर हो जाती हैं।

Central government issued guidelines regarding corona death

गाइडलाइंस में सरकार ने बताया, अगर किसी कोरोना मरीज की घर या अस्पताल में मौत होती है तो

रजिस्ट्रेशन ऑफ बर्थ एंड डेथ एक्ट (Registration of Birth and Death -RBD) 1969 की धारा 10 के तहत जो फॉर्म 4 और 4A जारी किया जाएगा।

इसमें मौत का कारण कोविड-19 डेथ लिखा जाएगा।

आम आदमी की बर्बादी की कगार! LPG के बाद CNG और PNG के बढ़े दामों का वार

सरकार ने बताया कि रजिस्ट्रार जनरल ऑफ इंडिया इसको लेकर जल्द ही सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के चीफ रजिस्ट्रार के लिए जरूरी गाइडलाइंस जारी करेंगे।

वहीं ये भी कहा गया है कि कि अगर किसी कोरोना मरीज की मौत जहर से (poisoning), आत्महत्या से (suicide),

हत्या से या किसी एक्सीडेंट (accident) से हो जाती है तो उसे कोविड डेथ नहीं माना जाएगा।

Central government issued guidelines regarding corona death

इस गाइडलाइंस में ये भी कहा गया है अगर मृतक के परिजन डेथ सर्टिफिकेट (Medical Certificate of Cause of Death – MCCD), पर लिखे मौत के कारण से संतुष्ट नहीं होते हैं तो, 

ऐसे मामलों में फिर जिला स्तर (district level) पर एक कमेटी बनाई जाएगी। कमेटी इस मामले की जांच पड़ताल करेगी और उसे 30 दिन के भीतर अपनी सौंपनी होगी।

महंगाई में आटा गिला..! FD में ब्याज सबसे निचले स्तर पर, जानियें क्या है अन्य सुरक्षित विकल्प

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 − 7 =

Back to top button