breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंविभिन्न खबरेंविश्व
Trending

Corona का कहर फिर बरपा,चीन में लाशों के अंबार,भारत सरकार ने भी जारी किया अलर्ट

चीन में ओमिक्रोन के नए सब-वैरिएंट का खतरनाक असर दिख रहा है। चूंकि यह सबसे ज्यादा संक्रामक सब-वैरिएंट है। ऐसे में भारत सरकार भी स्थिति पर नजर बनाएं हुए है और अलर्ट हो गई है।

Covid-19-outbreak-again-in-china-Indian-govt-alert

नई दिल्‍ली:कातिल कोरोना(Coronavirus)एक बार फिर से चीन(China)में कहर बनकर बरपा (Covid-19-outbreak-again-in-china)है।

आलम यह है कि चीन की अधिकांश जनता कोविड-19(COVID-19)के शिकंजे में जकड़ चुकी है,जिससे चीन में मेडिकल-हेल्थ सिस्टम पूरी तरह से चरमरा गया है।

अस्पतालों में मरीजों के लिए बेड और दवाईयां कम पड़ गए है और शमशान के बाहर भी लाशों के अंबार लग चुके है। स्थिति बहुत ही विस्फोटजनक दिख रही है।

चीन के बढ़ते मामलों का असर अमेरिका और जापान के बढ़ते केसों पर भी दिख रहा है।

ऐसे में जानना जरुरी है कि भारत सरकार(Indian Govt)कोरोना की नई लहर(Corona new wave) के लिए कितना सतर्क है और भारतीय जनता पर इसकी नई लहर का कैसा असर हो सकता है।

चीन में ओमिक्रोन के नए सब-वैरिएंट का खतरनाक असर दिख रहा है।

चूंकि यह सबसे ज्यादा संक्रामक सब-वैरिएंट है। ऐसे में भारत सरकार भी स्थिति पर नजर बनाएं हुए है और अलर्ट हो गई(Covid-19-outbreak-again-in-china-Indian-govt-alert)है।

बीते 24 घंटे के अंदर ही भारत सरकार ने दो बड़े निर्णय लिए है। पहला यह कि केंद्र ने राज्यों से जीनोम सीक्‍वेंसिंग (Corona Genome Sequencing) बढ़ाने के लिए कहा है।

दूसरा, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया (Mansukh Mandaviya) ने बुधवार को कोविड की ताजा स्थिति का जायजा लेने के लिए बैठक बुलाई है।

चीन के अलावा जापान, दक्षिण कोरिया, ब्राजील और अमेरिका(U.S.) में भी कोरोना के मामलों में अचानक तेजी आई है।

Covid-19 से ठीक होने के बाद भी रहें सतर्क,बढ़ रहे हार्ट और ब्रेन के मामले,जानें लक्षण और बचाव के टिप्स

इसे लेकर कोविड वर्किंग ग्रुप NTAGI के प्रमुख एनके अरोड़ा ने भी मंगलवार को बड़ा आश्‍वासन दिया। उन्‍होंने कहा कि घबराने की बिल्‍कुल जरूरत नहीं(Covid-19-outbreak-again-in-china-Indian-govt-alert) है।

हालांकि, आसपास खासतौर से चीन की स्थित‍ियों पर नजर रखनी होगी। फिलहाल स्थिति कंट्रोल में है। इसका कारण बड़े स्‍तर पर वैक्‍सीनेशन है। देश में करीब-करीब पूरी वयस्‍क आबादी को वैक्‍सीन(COVID-19 Vaccine)लग चुकी है।

जापान, दक्षिण कोरिया, ब्राजील, चीन और अमेरिका में कोविड-19(COVID-19) के मामलों में अचानक तेजी आई है।

इसे देखते हुए केंद्र सरकार ने मंगलवार को सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से कहा कि वे संक्रमित व्यक्तियों के नमूनों के जीनोम सीक्‍वेंसिंग में तेजी(new covid-advisory)लाएं। साथ ही वायरस के नए वैरियंट्स नजर रखें।

 

COVID-19:कोरोना के नए वेरिएंट में कौनसा मास्क है कारगर?घर पर पहनें या नहीं,जानें

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य सचिव ने राज्‍यों को ल‍िखी च‍िट्ठी

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने इस बारे में राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को एक पत्र लिखा है।

इसमें कहा है कि इस तरह की कवायद देश में वायरस के नए स्वरूपों का समय पर पता लगाने में सक्षम(Covid-19-outbreak-again-in-china-Indian-govt-alert)बनाएगी।

साथ ही जरूरी सार्वजनिक स्वास्थ्य कदम उठाए जाने में मदद करेगी। उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि परीक्षण-निगरानी-उपचार-टीकाकरण और कोविड-उपयुक्त व्यवहार के पालन से भारत कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने में कामयाब रहा है।

साप्ताहिक आधार पर संक्रमण के लगभग 1,200 मामले सामने आ रहे हैं।

covid sequencing

भूषण ने कहा कि अलग-अलग देशों में मामलों में अचानक आई तेजी को देखते हुए सतर्क रहने की जरूरत है।

भारतीय सार्स-कोव -2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम के जरिये वायरस के स्वरूपों पर नजर रखने के लिए नमूनों का पूरा जीनोम अनुक्रमण तैयार करना जरूरी है।

 

 

COVID-19 Vaccine:कोरोना वैक्सीन लगाने में भारत ने अमेरिका को पिछाड़ा,32 करोड़ के पार वैक्सीनेशन

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

मांडव‍िया करेंगे स्‍थ‍ित‍ि की समीक्षा
इसी बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया बुधवार को महामारी की स्थिति की समीक्षा करेंगे। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि मांडविया अंतरराष्ट्रीय परिदृश्य पर विचार करते हुए बुधवार को 11 बजे कोविड-19 स्थिति की समीक्षा करेंगे।

हालांकि, कोविड वर्किंग ग्रुप NTAGI के प्रमुख एनके अरोड़ा ने बड़ा आश्‍वासन दिया है। उनका कहना है कि पैनिक करने की जरूरत नहीं है।

जहां तक भारत का सवाल है तो यहां बड़े पैमाने पर प्रभावी वैक्‍सीनेशन(Vaccination)हो चुका है। भारत में कोरोना के मामले कम होने के पीछे एक और कारण से है।

उनके मुताबिक, देश में ओमिक्रोन(Omicron) के बहुत सब-वैरिएंट सर्कुलेट नहीं कर रहे हैं।

चीन में कई हफ्तों बाद कोविड-19 से मौत दर्ज की गई। 1.4 अरब वाले इस देश में 19 दिसंबर को संक्रमण से पांच लोगों की मौत हुई। इसी दिन चीन ने 2,722 ऐसे नए मामले रिपोर्ट किए थे जिनमें कोई लक्षण नहीं था।

सोमवार को चीन ने कोविड के 3,83,175 मामले रिपोर्ट किए। चीन में आने वाले महीनों में कोरोना केस और इससे होने वाली मौतों के आंकड़े बढ़ने की आशंका है। शी जिनपिंग सरकार ने कोरोना से जुड़ी पाबंदियों में हाल में ढील दी थी।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

(इनपुट एजेंसी से भी)

 

 

Covid-19-outbreak-again-in-china-Indian-govt-alert

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button