breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीतिराजनीतिक खबरेंविश्व
Trending

Tawang Clash:चीन युद्ध की तैयारी कर रहा,लेकिन हिंदुस्तान की सरकार सोई है-राहुल गांधी,बीजेपी का पलटवार ये नेहरू नहीं मोदी का भारत

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने 16दिसंबर को एक प्रेस-कॉन्फ्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि चीन युद्ध की तैयारी कर रहा है और हिंदुस्तान की सरकार सोई हुई है। मोदी सरकार चीन से युद्ध के खतरे को अनदेखी कर रही है। इस पर बीजेपी की ओर से भी पलटवार किया गया और हमेशा की तरह फिर से बीजेपी ने चीन के खतरे को भी नेहरू के मत्थे मढ़ दिया।

Tawang-Clash-China-ready-for-war-but-Modi-govt-ignoring-threat-says-Rahul-Gandhi-BJP-hit-back

नई दिल्ली:तवांग विवाद देश में राजनीतिक सुर्खियां बटोर रहा है। चीन(China) के सैनिकों और भारत की सेना के बीच अरुणाचल प्रदेश के तवांग (Tawang) में हुई झड़प पर कांग्रेस सहित समूचा विपक्ष मोदी सरकार पर हमलावर है।

तवांग विवाद(Twang-Clash)का मुद्दा पहले संसद में गूंजा और अब शुक्रवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी(Rahul Gandhi)ने भारत जोड़ो यात्रा(Bharat Jodo Yatra) के दौरान भारतीय क्षेत्र में चीनी हस्तक्षेप और हिंदुस्तान की सरकार की भूमिका पर सवाल उठाएं है। 

शुक्रवार को भारत जोड़ो यात्रा के 100 दिन पूरे हो गए है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने 16दिसंबर को एक प्रेस-कॉन्फ्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि चीन युद्ध की तैयारी कर रहा है और हिंदुस्तान की सरकार सोई हुई(Tawang-Clash-China-ready-for-war-but-Modi-govt-ignoring-threat-says-Rahul-Gandhi-BJP-hit-back)है।

हमारे जवानों को पीटा जा रहा है लेकिन भारत सरकार सोई पड़ी है।

मोदी सरकार(Modi Govt)चीन से युद्ध के खतरे को अनदेखी कर रही है।

इस पर बीजेपी की ओर से भी पलटवार किया (Tawang-Clash-China-ready-for-war-but-Modi-govt-ignoring-threat-says-Rahul-Gandhi-BJP-hit-back)गया और हमेशा की तरह फिर से बीजेपी ने चीन के खतरे को भी नेहरू के मत्थे मढ़ दिया।

बीजेपी ने राहुल गांधी के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि यह मोदी का भारत है जवाहर लाल नेहरू का भारत नहीं है।

इस बुजुर्ग महिला ने राहुल गांधी के नाम किया अपना वसीयतनामा, 50 लाख रुपये,10 तोला सोना,बताई ये बड़ी वजह

अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर (India-China Tawang Clash) में दोनों देशों के सैनिकों के आमने-सामने आने के हालिया घटनाक्रम के बाद राहुल गांधी ने यह बातें कही है।

‘भारत जोड़ो यात्रा’ पर निकले राहुल गांधी(Rahul Gandhi)ने कहा, “चीन युद्ध की तैयारी कर रहा है, घुसपैठ की नहीं।

उनके हथियारों का पैटर्न देखें। वे युद्ध की तैयारी कर रहे हैं। हमारी सरकार इसे स्वीकार नहीं कर रही है। भारत सरकार रणनीति पर नहीं, घटनाओं पर काम कर रही है।”

राहुल गांधी ने कहा, “चीन ने हमारी जमीन ले ली है। वे सैनिकों पर हमले कर रहे हैं।चीन का खतरा स्पष्ट है। सरकार इसे अनदेखा कर रही(Tawang-Clash-China-ready-for-war-but-Modi-govt-ignoring-threat-says-Rahul-Gandhi-BJP-hit-back)है।

चीन लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश (India-China Clash)में हमले की तैयारी कर रहा है। भारत सरकार सो रही है।” राहुल गांधी राजस्थान के दौसा में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के एक पड़ाव पर बोल रहे थे।

कांग्रेस सांसद ने आरोप लगाया कि चीन ने 2,000 वर्ग किलोमीटर भारतीय क्षेत्र पर कब्जा कर लिया है, 20 भारतीय सैनिकों को मार डाला है और ‘अरुणाचल प्रदेश में हमारे जवानों की पिटाई कर रहा है.’ 
Tawang-Clash-China-ready-for-war-but-Modi-govt-ignoring-threat-says-Rahul-Gandhi-BJP-hit-back

बीजेपी का राहुल गांधी पर पलटवार

-बीजेपी सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौर ने राहुल गांधी के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि राहुल गांधी के नाना जी सो रहे थे और उन्होंने सोते-सोते भारत का 37 हजार स्क्वायर किमी क्षेत्र गंवा(Tawang-Clash-China-ready-for-war-but-Modi-govt-ignoring-threat-says-Rahul-Gandhi-BJP-hit-back)दिया।

उसके बाद राहुल गांधी को लगा कि चीन से मित्रता करनी चाहिए और अब मित्रता इतनी गहरी है कि चीन क्या करने वाला है ये उन्हें पता है. राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन की कम्युनिस्ट पार्टी से 1.35 करोड़ रुपये मिले हैं।

उन्होंने कहा कि अब ये नेहरू का भारत नहीं बल्कि मोदी का भारत है. सेना को देश की रक्षा करने के लिए खुली छूट है। हमारी सेना घुस कर मारती है।

केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने भी राहुल के बयान पर प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा कि राजीव गांधी फाउंडेशन ने चीन से पैसा लिया यह एक भ्रष्टाचार है. पं. नेहरू और कांग्रेस के शासन में हमारी जमीन किस तरह चीन के पास गई यह सभी जानते हैं. राहुल गांधी को गंभीरता से नहीं लेना चाहिए।

असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने भी राहुल गांधी पर तंज कसा. उन्होंने ट्वीट किया कि चीन के लिए अपने प्यार में राहुल गांधी ने सभी सीमाओं को पार कर दिया है. वीडियो सबूत के बावजूद उनका कहना है कि भारतीय सैनिकों को चीनियों ने पीटा है. कोई भारत और भारतीय सेना से इतनी नफरत कैसे कर सकता है।

Indo-China सीमा तनाव : चीन ने भारत पर लगाया LAC पार करने का आरोप

 

Tawang-Clash-China-ready-for-war-but-Modi-govt-ignoring-threat-says-Rahul-Gandhi-BJP-hit-back

कांग्रेस का पलटवार

हिमंत बिस्वा सरमा के इस बयान पर कांग्रेस की ओर से भी पलटवार किया गया। कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि ये लोग कांग्रेस और राहुल गांधी को फौज की खिलाफत करने वाला बनाना चाहते हैं, लेकिन वे कामयाब नहीं होंगे।

जिसने देश की आजादी की लड़ाई में एक बूंद खून नहीं निकाला वे आज राष्ट्र भक्त बन गए हैं। उस परिवार ने देश की रक्षा के लिए 2 प्रधानमंत्रियों की शहादत दी।

कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि विपक्ष की तरफ से अगर सरकार को किसी विषय पर सचेत किया जाता है, तो क्या ये गुनाह है?

अगर भारत और चीन के बीच सबकुछ ठीक है तो फिर यथास्थिति बहाल करने की क्या जरूरत है? डेमचोक और देपसांग में हमारी सेना जहां गश्ती लगाती थी, वहां अब गश्त नहीं कर(Tawang-Clash-China-ready-for-war-but-Modi-govt-ignoring-threat-says-Rahul-Gandhi-BJP-hit-back)पाते।

अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि चीन को दंडित करने के बजाय, वे चीन के व्यापार में योगदान दे रहे हैं।

3,560 भारतीय कंपनियों में चीनी निदेशक हैं. मैं इसे चुनौती देता हूं, जाकर जांच करो। इन बातों पर संसद में खुलकर चर्चा करें। राहुल गांधी इन बातों से सरकार को अवगत कराते हैं और सरकार को यह पसंद नहीं है।

गौरतलब है कि बीती 9 दिसंबर को अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के तवांग सेक्टर में यांगत्से में भारत और चीन के सैनिकों के बीच झड़प हुई थी. इस झड़प में दोनों देशों के सैनिकों को चोटें आई थीं. हालांकि चीन को ज्यादा नुकसान हुआ था।

ध्यान दें कि तवांग में हुई इस घटना को 2020 के बाद से परमाणु-सशस्त्र एशियाई दिग्गजों की विवादित सीमा पर सबसे गंभीर माना जा रहा है।

लद्दाख की गलवान घाटी(Galwan Valley)में 2020 में हुई हिंसक झड़प के बाद ये पहली घटना है।

गलवान घाटी में हुए हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे।

चीन के 35 सैनिकों की मौत हो गई थी। हालांकि, इंटरनेशनल मीडिया में चीन ने अपने सैनिकों की संख्या 4 ही बताई है।

चीन और भारत(Indo-China)ने 1962 में अरुणाचल प्रदेश के नियंत्रण के लिए पूर्ण पैमाने पर युद्ध लड़ा।

बीजिंग अरुणाचल पर अपनी संपूर्णता का दावा करता है और इसे तिब्बत का हिस्सा मानता है।

भारत हमेशा से ही चीन को सभी दावों को खारिज करता आया है. भारत ने साफ कहा है कि अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न हिस्सा है।

China जल्द करेगा ताइवान पर मिसाइल अटैक! शुरू किया युद्धाभ्यास: चीनी मीडिया

 

 

 

 

 

 

Tawang-Clash-China-ready-for-war-but-Modi-govt-ignoring-threat-says-Rahul-Gandhi-BJP-hit-back

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button