breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति
Trending

Presidential elections 2022:शिवसेना NDA उम्मीदवार द्रौपदी मूर्मू का समर्थन करेगी: उद्धव ठाकरे

उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि वह एनडीए(NDA)उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू(Draupadi-Murmu)का समर्थन अपने सांसदों के दबाव में आकर नहीं कर रहें,बल्कि बाला साहेब ठाकरे के नक्शेकदम पर चलते हुए एक काबिल,आदिवासी महिला उम्मीदवार का समर्थन राष्ट्रपति चुनाव में कर रहे है।

Presidential-elections-2022-Shiv-Sena-will-support-NDA-candidate-Draupadi-Murmu-says-Uddhav-Thackeray

मुंबई:शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे(Uddhav Thackeray)ने मंगलवार को एलान कर ही दिया कि राष्ट्रपति चुनाव 2022(Presidential-elections-2022)में शिवसेना भाजपा नेतृत्व वाली एनडीए की राष्ट्रपति चुनाव की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का समर्थन (Shiv-Sena-will-support-NDA-candidate-Draupadi-Murmu-says-Uddhav-Thackeray)करेगी।

हालांकि उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि वह एनडीए(NDA)उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू(Draupadi-Murmu)का समर्थन अपने सांसदों के दबाव में आकर नहीं कर रहें,बल्कि बाला साहेब ठाकरे के नक्शेकदम पर चलते हुए एक काबिल,आदिवासी महिला उम्मीदवार का समर्थन राष्ट्रपति चुनाव में कर रहे है।

चूंकि एनडीए का सहयोगी रहते हुए भी बालासाहेब ने यूपीए(UPA)की राष्ट्रपति महिला उम्मीदवार प्रतिभा पाटिल का समर्थन किया था,चूंकि वह महाराष्ट्रीयन महिला थी।

उद्धव ठाकरे ने यह भी कहा कि बालासाहेब की शिवसेना(ShivSena)ने प्रणब मुखर्जी जोकि कांग्रेस के उम्मीदवार थे,उनका भी राष्ट्रपति चुनाव में समर्थन किया था।

चूंकि उनका मानना था कि राष्ट्रपति किसी दल का नहीं होता और किसी काबिल व्यक्ति को ही इसपर काबिज होना चाहिए।

फिर चाहे वह किसी भी दल से संबंध रखता हो। इसी परंपरा का निर्वाह करते हुए शिवसेना विपक्ष में होकर भी एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति चुनाव 2022 में समर्थन(Presidential-elections-2022-Shiv-Sena-will-support-NDA-candidate-Draupadi-Murmu-says-Uddhav-Thackeray)करेंगी।

हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से खबर आ रही है कि उद्धव ठाकरे(Uddhav Thackeray)महाराष्ट्र(Maharashtra) में 40 विधायकों की बगावत के बाद कोई जोखिम मोल नहीं लेना चाहते और उन्होंने अपने सासंदों के दबाव में आकर ही एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu)का समर्थन राष्ट्रपति चुनाव में करने की घोषणा ली है।

Maharashtra Crisis: Uddhav Thackeray पार्टी सिंबल धनुष-बाण बचाने गए चुनाव आयोग

दरअससल,शिवसेना के ज्यादातर सांसद चाहते थे कि शिवसेना एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करें न कि विपक्षी उम्मीदवार यशवंत सिन्हा(Yashwant Sinha)का।

इसी के चलते सोमवार को उद्धव ठाकरे ने अपने लोकसभा और राज्यसभा सांसदों की एक बैठक बुलाई थी। ताकि वह जान सकें कि सासंद राष्ट्रपति चुनाव में किसके पक्ष में वोट देना चाहते है।

इस बैठक में 16 सांसदों ने ठाकरे से आग्रह किया था कि राष्‍ट्रपति चुनाव में पार्टी को एनडीए कैंडिडेट द्रौपदी मुर्मू को वोट करना चाहिए क्‍योंकि वे आदिवासी समुदाय की महिला हैं।

इसलिए अब आज,मंगलवार को उद्धव ठाकरे ने एलान कर दिया कि शिवसेना राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करेगी।

जबकि राज्यसभा सांसद और उद्धव ठाकरे के करीबी संजय राउत नहीं चाहते कि शिवसेना भाजपा के उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करें।

लेकिन पार्टी में विधायकों के बाद अब सांसदों की टूट के डर के आगे उद्धव ठाकरे को आखिरकार झुकना ही पड़ा और उन्होंने एलान कर दिया कि शिवसेना एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का समर्थन(Presidential-elections-2022-Shiv-Sena-will-support-NDA-candidate-Draupadi-Murmu-says-Uddhav-Thackeray) करेगी।

आपको बता दें कि राष्‍ट्रपति पद के लिए वोटिंग 18 जुलाई(Presidential-elections-2022)को होनी है।

Maharashtra Crisis:डिप्टी स्पीकर ने खारिज किया अविश्वास प्रस्ताव,बागी 16 MLA को भेजा नोटिस,शिंदे गुट जाएगा सुप्रीम कोर्ट

राष्ट्रपति चुनाव 2022 में द्रौपदी मुर्मू जहां भाजपा नित एनडीए की उम्मीदवार है तो वहीं विपक्षी दल की राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा है,जिनका नाम ममता बनर्जी की टीएमसी(TMC)ने आगे बढ़ाया था।

लेकिन अब खुद ममता बनर्जी भी आदिवासियों के वोटों के छिटकने के डर से यशवंत सिन्हा का खुलकर समर्थन नहीं कर पा रही है।

वहीं एकनाथ शिंदे धड़े के टूटने और बीजेपी(BJP)के समर्थन से सीएम के तौर पर उद्धव ठाकरे की जगह लेने के बाद से शिवसेना संकट का सामना कर रही है। महाराष्‍ट्र की जनसंख्‍या की करीब 10 फीसदी अनुसूचित जनजाति से है।

गौरतलब है कि शिंदे गुट पिछले माह विद्रोह के दौरान यह लगातार मांग कर रहा था कि शिवसेना को कांग्रेस और राकांपा से संबंध खत्‍म करके अपने स्‍वाभाविक सहयोगी बीजेपी के साथ फिर से गठजोड़ करना चाहिए।

उद्धव ठाकरे ने इससे इनकार कर दिया था और अधिकांश विधायकों के पाला बदलकर शिंदे के पक्ष में जाने के बाद सीएम पद से इस्‍तीफा दे दिया था।  

उनके इस्‍तीफे के बाद एकनाथ शिंदे(Eknath Shinde)ने महाराष्‍ट्र के सीएम और बीजेपी के देवेंद्र फडणवीस ने डिप्‍टी सीएम पद  की शपथ ली थी।  

Maharashtra Political Crisis:कांग्रेस,NCP ने हमारा समर्थन किया,हमारेअपनों ने पीठ में छुरा घोंपा:CM उद्धव ठाकरे

शिवसेना सांसद गजानन कीर्तिकर ने सोमवार को बताया था कि बैठक के दौरान शिवसेना के लोकसभा के 16 और राज्यसभा के दो सांसद मौजूद रहे थे।

हालांकि बैठक में दो सांसद नहीं पहुंचे। भावना गवली और श्रीकांत शिंदे इस बैठक में मौजूद नहीं थे।

उद्धव ठाकरे के निजी आवास मातोश्री में आयोजित बैठक में राज्यसभा सांसद संजय राउत और प्रियंका चतुर्वेदी व लोकसभा सांसद गजानन कीर्तिकर, विनायक राऊत, अरविंद सावंत, हेमंत गोडसे, धैर्यशील माने, श्रीरंग बरने, राहुल शेवाले, प्रतापराव जाधवी, सदाशिवराव लोखंडे, राजेंद्र गावित, राजन विचारे और ओमप्रकाश राजेनिंबालकर सहित अन्य सांसद भी पहुंचे थे।  

बैठक में 16 सांसदों ने राष्ट्रपति उम्मीदवार के समर्थन को लेकर कहा था कि द्रौपदी मुर्मू आदिवासी महिला हैं। इसलिए हमें उनके पक्ष में मतदान करना चाहिए। इसके पहले भी हम मराठी के मुद्दे पर प्रतिभा पाटिल का समर्थन कर चुके हैं।

Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे बागी विधायकों संग पहुंचे असम,दो-तिहाई विधायक के साथ का दावा

 

 

 

Presidential-elections-2022-Shiv-Sena-will-support-NDA-candidate-Draupadi-Murmu-says-Uddhav-Thackeray

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button