breaking_newsअन्य ताजा खबरेंफैशनलाइफस्टाइल
Trending

Sunday Thoughts : कुछ तो जमीर बाक़ी है अख़बारों में

तारीख़ और वार आज भी सही बताते हैं - सुविचार

Sunday Thoughts in hindi Suvichar Suprabhat Motivational Quotes in hindi

कुछ तो जमीर बाक़ी है

अख़बारों में

तारीख़ और वार आज भी सही बताते हैं

Monday Thoughts : शौक से निकालियें नुक्स मेरे किरदार में, आप नहीं होंगे तो मुझे तराशेगा कौन 

शौक से निकालियें 

नुक्स मेरे किरदार में 

आप नहीं होंगे तो 

मुझे तराशेगा कौन

 

Powerful Motivational Thoughts : हर रोज जब आप उठें, आइना देखें और खुद को  एक अच्छी मुस्कान दें….

हर रोज जब आप उठें,

आइना देखें और खुद को  एक अच्छी मुस्कान दें

मुस्कान जीवन का पवित्र उपहार है

हँसते रहो मुसकुराते रहो जीवन इसी का नाम है

Thoughts : संभव और असंभव के बीच की दूरी…व्यक्ति की सोच और कर्म पर निर्भर करती है…

शब्द मुफ्त में मिलते हैं

लेकिन उनके चयन पर निर्भर करता है

कि उसकी कीमत मिलेगी

या चुकानी पड़ेगी

Thoughts : प्यार और आदर के लिए किसी के पीछे कभी न भागें…

यह भी पढ़े : 

Sunday Thoughts : हौसले के तरकश में कोशिश का वो तीर ज़िंदा रखो, हार जाओ चाहे

Saturday Thoughts : जब तक जीना ,तब तक सीखना,अनुभव ही जिंदगी में सर्वश्रेष्ठ..

Wednesday Thoughts : मन ऐसा रखो कि किसी को बुरा न लगे…

Saturday Thoughts : मन का झुकना बहुत जरूरी है, केवल सर झुकाने से….

Friday Thoughts : बस एक तज़ुर्बा लिया है ज़िन्दगी से.. अपनो के नज़दीक रहना है..

Tuesday Thoughts in Hindi : समझदारी की बात इसी में है की आप कभी भी उस…

Wednesday Thoughts : डाली से टूटा फूल फिर से लग नहीं सकता है मगर…

Tuesday Thoughts : किसी भी रिश्ते को बनाए रखने के लिए गिड़गिड़ाने की जरुरत नहीं

Sunday Thoughts in Hindi : समझे बिना किसी को पसंद ना करो

Sunday Thoughts : असफल होना बुरा है लेकिन प्रयास ही ना करना महाबुरा है

Sunday Thoughts in hindi Suvichar Suprabhat Motivational Quotes in hindi

Friday Thoughts : मैं उन लोगों का आभारी हूं जिन्होंने मुझे छोड़ दिया…..

गुरुवार सुविचार : हम आ जाते हैं बहुत जल्दी दुनियां की बातों में गुरु की बातों में

( इनपुट सोशल मीडिया से )

Tuesday Thoughts in Hindi : प्रेम सदा माफ़ी माँगना पसंद करता है…

 

Show More

Dropadi Kanojiya

द्रोपदी कनौजिया पेशे से टीचर रही है लेकिन अपने लेखन में रुचि के चलते समयधारा के साथ शुरू से ही जुड़ी है। शांत,सौम्य स्वभाव की द्रोपदी कनौजिया की मुख्य रूचि दार्शनिक,धार्मिक लेखन की ओर ज्यादा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 + 8 =

Back to top button