breaking_newsअन्य ताजा खबरेंघरेलू नुस्खेहेल्थ
Trending

अजवाइन न सिर्फ सब्जियों का स्वाद बढ़ाये, बल्कि कई बिमारियों को जड़ से भगाएं

अपने एंटी ऑक्सिडेंट और एंटी बैक्टीरियल गुणों के कारण अजवाइन गैस बनने, पेट दर्द, सर्दी-जुकाम जैसी तकलीफों के इलाज के लिए हर घर में इस्तेमाल की जाने वाली एक कारगर जड़ी-बूटी है।

Ajwain ke gharelu upay ajwain health tips 

नयी दिल्ली (समयधारा) : दोस्तों हमारी रसोई के खजाने में कई ऐसी औषधियां छुपी है जिनके बार में कई लोग अनजान है l

और जो लोग  जानकार है वो इसका उपयोग नहीं के बराबर करते है l

आज हम आपको ऐसी ही एक रसोई की चीज के बारें में बताएँगे जो अनगिनत गुणों का भंडार है l 

अजवाइन जी हाँ दोस्तों अजवाइन(Ajwain) न सिर्फ सब्जियों के स्वाद में चार चाँद लगाती है,

बल्कि यह एक ऐसी जड़ी बूटी है है जिससे कई बीमारीयों से छुटकारा मिल जाता है l 

Covid-19 से ठीक होने के बाद भी रहें सतर्क,बढ़ रहे हार्ट और ब्रेन के मामले,जानें लक्षण और बचाव के टिप्स

Covid-19 से ठीक होने के बाद भी रहें सतर्क,बढ़ रहे हार्ट और ब्रेन के मामले,जानें लक्षण और बचाव के टिप्स

अपने एंटी ऑक्सिडेंट और एंटी बैक्टीरियल गुणों के कारण अजवाइन गैस बनने, पेट दर्द,

सर्दी-जुकाम जैसी तकलीफों के इलाज के लिए हर घर में इस्तेमाल की जाने वाली एक कारगर जड़ी-बूटी है।

आइए जानते हैं इसके घरेलू उपायों के बारे में

पाचन प्रक्रिया को ठीक रखने के लिए अजवाइन और हरड़ को बराबर मात्रा में पीस लें।

हींग और सेंधा नमक स्वादानुसार मिलाकर चूर्ण बना कर किसी बोतल में भर लें। इस चूर्ण का एक चम्मच गर्म पानी के साथ लें।

10 ग्राम पुदीने का चूर्ण, 10 ग्राम अजवाइन और 10 ग्राम कपूर एक साफ बोतल में डालकर धूप में रखें।

Weight loss tips: इस स्मार्ट ट्रिक से सफेद चावल खाकर घटाएं अपना वजन

Weight loss tips: इस स्मार्ट ट्रिक से सफेद चावल खाकर घटाएं अपना वजन

तीनों चीजें गलकर पानी बन जाएंगी। इसकी 5-7 बूंदें बताशे के साथ खाने से मरोड़, पेट दर्द, जी मिचलाने जैसी समस्या में लाभ होगा।

कब्ज होने पर 10 ग्राम अजवायन, 10 ग्राम त्रिफला और 10 ग्राम सेंधा नमक मिलाकर पीसकर चूर्ण बना लें।

रोजाना इसमें से 3 से 5 ग्राम चूर्ण गुनगुने पानी के साथ लें, बहुत जल्द ही आराम होगा।

अपच होने पर एक कप पानी में एक चम्मच अजवाइन के बीज उबालें। थोड़ा ठंडा होने पर पिएं।

एक ग्राम अजवाइन में एक चुटकी नमक मिलाकर चबा-चबा कर खाने से पेट में बनी गैस से होने वाले पेट दर्द में आराम मिलता है।

तीन चम्मच अजवाइन के बीजों में नीबू का रस और थोड़ा सा काला नमक मिलाएं। इस मिश्रण को गुनगुने पानी के साथ दिन में दो बार खाएं।

Hair loss treatment: इन फूड्स से बालों का गिरना रुकेगा,तेजी से बढ़ेंगे,होंगे मजबूत,आज ही करें डाइट में शामिल

Hair loss treatment: इन फूड्स से बालों का गिरना रुकेगा,तेजी से बढ़ेंगे,होंगे मजबूत,आज ही करें डाइट में शामिल

Ajwain ke gharelu upay ajwain health tips 

आधा लीटर पानी में एक-एक चम्मच अजवाइन और सौंफ के बीज डाल कर धीमी आंच पर पकाएं। ठंडा होने के बाद भोजन के बाद हर रोज पिएं।

एक कप छाछ के साथ एक चम्मच अजवाइन खाने से सर्दी-जुकाम के कारण बनने वाले कफ में राहत मिलती है।

एक चम्मच अजवाइन के दानों को हाथ से मसल कर बारीक कर लें और इसे थोड़े से गुड़ के साथ मिलाकर टॉफी की तरह चूसकर सेवन करें, लाभ होगा।

एक मुलायम कपड़े में थोड़ी सी अजवाइन डाल कर पोटली बना लें। इसे तवे पर गर्म कर चेस्ट की सिकाई करें, आराम मिलेगा।

कुछ भी खाते ही पेट में हो जाता है भारीपन? इन नुस्खों से तुरंत मिलेगी राहत

कुछ भी खाते ही पेट में हो जाता है भारीपन? इन नुस्खों से तुरंत मिलेगी राहत

एसिडिटी की समस्या होने पर एक गिलास गर्म पानी में एक-एक चम्मच जीरा और अजवायन मिलाकर उबालें। थोड़ा ठंडा होने पर पिएं।

गर्म पानी के साथ सोंठ, अजवाइन और काला नमक मिलाकर खाने से आराम मिलता है। अजवाइन और काले नमक को छाछ के साथ मिलाकर सेवन करें, लाभ होगा।

एक कप पानी में एक चम्मच पिसी अजवाइन और थोड़ा सा नमक उबालें। पानी गुनगुना रह जाए तो उसे मुंह में लेकर कुछ देर रोकें और फिर कुल्ला कर फेंक दें।

Ajwain ke gharelu upay ajwain health tips 

Heart attack से चंद सेकेंड्स में मौत के मुंह में पहुंचे सोनाली फोगाट,सिद्धार्थ शुक्ला,केके और राजू श्रीवास्तव,जानें लक्षण और बचाव

ऐसा दिन में तीन बार करें। अजवाइन भून कर पीस लें। इस तैयार चूर्ण से मंजन करने पर मसूढ़ों की बीमारियों में आराम मिलता है।

लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि बेहतर लाभ के लिए विशेषज्ञ की सलाह लेनी चाहिए।

Heart attack से चंद सेकेंड्स में मौत के मुंह में पहुंचे सोनाली फोगाट,सिद्धार्थ शुक्ला,केके और राजू श्रीवास्तव,जानें लक्षण और बचाव

 

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button