breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति
Trending

100 करोड़ COVID डोज पूरी होने पर पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन:कहा-हमें सतत सावधान रहने की जरूरत

मोदी ने कहा इस उपलब्धि के पीछे 130 करोड़ देशवासियों की कर्तव्यशक्ति लगी है, इसलिए ये सफलता भारत की सफलता है, हर देशवासी की सफलता है।

PM-Modi-address-to-nation-on-India-achievement-100-crore-covid vaccination-key-highlights

नई दिल्ली:देश ने100 करोड़ से ज्यादा कोविड डोज देने का आकंड़ा पार कर लिया(India-achievement-100-crore-covid vaccination)है।

इस बड़ी उपलब्धि  पर पीएम मोदी(PM-Modi-address-to-nation)ने आज सुबह 10 बजे देश को संबोधित किया।

उन्होंने कहा कि 21 अक्टूबर को भारत ने 1 बिलियन, 100 करोड़ वैक्सीन डोज़ का कठिन लेकिन असाधारण लक्ष्य प्राप्त किया है।

मोदी ने कहा इस उपलब्धि के पीछे 130 करोड़ देशवासियों की कर्तव्यशक्ति लगी है, इसलिए ये सफलता भारत की सफलता है, हर देशवासी की सफलता है।

उन्होंने कहा कि हमें सतर्कता के साथ त्यौहार मनाना है। अभी युद्ध जारी है और हमें हथियार नहीं डालने। 

PM Modi के जन्मदिन पर रिकॉर्ड टीकाकरण,2 करोड़ से ज्यादा टीके लगे,2.50करोड़ का लक्ष्य छूने की उम्मीद

चलिए अब आपको पीएम मोदी के संबोधन की प्रमुख बातें बताते है:

PM-Modi-address-to-nation-on-India-achievement-100-crore-covid vaccination-key-highlights

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश में 100 करोड़ डोज की उपलब्धि को पार करना सिर्फ आकंड़ा नहीं, बल्कि हमारे सामर्थ्य का प्रतीक है।

-दुनिया के दूसरे बड़े देशों के लिए वैक्सीन पर रिसर्च करना, वैक्सीन खोजना, इसमें दशकों से उनकी expertise थी। भारत, अधिकतर इन देशों की बनाई वैक्सीन्स पर ही निर्भर रहता था।

-आज कई लोग भारत के वैक्सीनेशन प्रोग्राम की तुलना दुनिया के दूसरे देशों से कर रहे हैं। भारत ने जिस तेजी से 100 करोड़ का, 1 बिलियन का आंकड़ा पार किया, उसकी सराहना भी हो रही है। लेकिन, इस विश्लेषण में एक बात अक्सर छूट जाती है कि हमने ये शुरुआत कहाँ से की है।

आज PM Modi का 71वां जन्मदिन,BJP बना रही खास,संस्कृति मंत्रालय करेगा उपहारों की ई-नीलामी

-भारत के लोगों को वैक्सीन मिलेगी भी या नहीं? क्या भारत इतने लोगों को टीका लगा पाएगा कि महामारी को फैलने से रोक सके? भांति-भांति के सवाल थे, लेकिन आज ये 100 करोड़ वैक्सीन डोज, हर सवाल का जवाब दे रही है।

-जब 100 साल की सबसे बड़ी महामारी आई, तो भारत पर सवाल उठने लगे। क्या भारत इस वैश्विक महामारी से लड़ पाएगा? भारत दूसरे देशों से इतनी वैक्सीन खरीदने का पैसा कहां से लाएगा? भारत को वैक्सीन कब मिलेगी? 

-सबको साथ लेकर देश ने ‘सबको वैक्सीन-मुफ़्त वैक्सीन’ का अभियान शुरू किया। गरीब-अमीर, गाँव-शहर, दूर-सुदूर, देश का एक ही मंत्र रहा कि अगर बीमारी भेदभाव नहीं नहीं करती, तो वैक्सीन में भी भेदभाव नहीं हो सकता! इसलिए ये सुनिश्चित किया गया कि वैक्सीनेशन अभियान(Vaccination) पर VIP कल्चर हावी न हो।

PM-Modi-address-to-nation-on-India-achievement-100-crore-covid vaccination-key-highlights

PM Modi ने नए ‘डिफेंस कॉम्पलेक्स’ का उद्घाटन किया,रक्षा मंत्रालय के 7 हजार कर्मचारी करेंगे काम

-कोरोना महामारी की शुरुआत में ये भी आशंकाएं व्यक्त की जा रही थीं कि भारत जैसे लोकतंत्र में इस महामारी से लड़ना बहुत मुश्किल होगा। भारत के लिए, भारत के लोगों के लिए ये भी कहा जा रहा था कि इतना संयम, इतना अनुशासन यहाँ कैसे चलेगा? लेकिन हमारे लिए लोकतन्त्र का मतलब है-‘सबका साथ’।

-भारत का पूरा वैक्सीनेशन प्रोग्राम विज्ञान की कोख में जन्मा है, वैज्ञानिक आधारों पर पनपा है और वैज्ञानिक तरीकों से चारों दिशाओं में पहुंचा है। हम सभी के लिए गर्व करने की बात है कि भारत का पूरा वैक्सीनेशन प्रोग्राम, Science Born, Science Driven और Science Based रहा है।

Experts और देश-विदेश की अनेक agencies भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर बहुत सकारात्मक है। आज भारतीय कंपनियों में ना सिर्फ record investment आ रहा है बल्कि युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर भी बन रहे है। Start-ups में record investment के साथ ही record Start-ups, Unicorn बन रहे है।

-जैसे स्वच्छ भारत अभियान, एक जनआंदोलन है, वैसे ही भारत में बनी चीज खरीदना, भारतीयों द्वारा बनाई चीज खरीदना, Vocal for Local होना, ये हमें व्यवहार में लाना ही होगा।

PM Modi का चुनावी दांव-राजा महेंद्र प्रताप सिंह यूनिवर्सिटी का अलीगढ़ में शिलान्यास,डिफेंस कॉरिडोर की भी सौगात

PM-Modi-address-to-nation-on-India-achievement-100-crore-covid vaccination-key-highlights

-मैं आपसे फिर ये कहूंगा कि हमें हर छोटी से छोटी चीज, जो Made in India हो, जिसे बनाने में किसी भारतवासी का पसीना बहा हो, उसे खरीदने पर जोर देना चाहिए। और ये सबके प्रयास से ही संभव होगा।

-कवच कितना ही उत्तम हो, कवच कितना ही आधुनिक हो, कवच से सुरक्षा की पूरी गारंटी हो, तो भी, जब तक युद्ध चल रहा है, हथियार नहीं डाले जाते। मेरा आग्रह है, कि हमें अपने त्योहारों को पूरी सतर्कता के साथ ही मनाना है। 

देश बड़े लक्ष्य तय करना और उन्हें हासिल करना जानता है। लेकिन, इसके लिए हमें सतत सावधान रहने की जरूरत है। हमें लापरवाह नहीं होना है।

PM-Modi-address-to-nation-on-India-achievement-100-crore-covid vaccination-key-highlights

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × five =

Back to top button