Trending

UNSC में रूस के खिलाफ वोटिंग से भारत-चीन पीछे हटे,जानें किस-किस देश ने विरोध में डाला वोट

यूक्रेन पर रूस के हमले के खिलाफ निंदा प्रस्ताव लाया गया,तो भारत ने कूटनीति का सहारा लेते हुए रूस के आक्रमण की निंदा तो की,लेकिन रूस के खिलाफ वोटिंग से पीछे हट गया।

UNSC-resolution-condemning-Russia-India-China-and-UAE-abstain-know-who-voted against

नई दिल्ली: रूस के यूक्रेन पर हमले(Russia attacks Ukraine)के बाद से ही देश और विश्वभर की नजर इस बात पर टिकी थी कि विश्व-पटल की बैठक में भारत रूस(Russia) के खिलाफ वोट करेगा या अमेरिका(U.S.)का साथ देगा।

इस अहम मुद्दे का हल भारत ने कूटनीति से दे ही दिया।शनिवार तड़के(भारतीय समयानुसार)जब अमेरिका समर्थित संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद(UN security council) में यूक्रेन(Ukraine)पर हमला करने के कारण

यूक्रेन पर रूस के हमले के खिलाफ निंदा प्रस्ताव लाया(UNSC-resolution-condemning-Russia)गया,तो भारत ने कूटनीति का सहारा लेते हुए रूस के आक्रमण की निंदा तो की,लेकिन रूस के खिलाफ वोटिंग से पीछे हट (Russia-India-China-and-UAE-abstain)गया।

सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि चीन और यूएई ने भी रूस के हमले की निंदा की लेकिन वोटिंग से परहेज किया।

Russia-Ukraine war-Russia attacks Ukraine-putin-announces-a-military-operation-in-ukraine
रूस ने यूक्रेन पर हमला किया

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद्(UNSC)में यूक्रेन के ऊपर रूस के हमले के खिलाफ सभी देशों को वोटिंग करनी थी,इसमें भारत के लिए सबसे बड़ी परीक्षा की घड़ी थी।

चूंकि एक ओर सदियों से रूस के साथ दोस्ताना संबंध थे तो दूसरी ओर अमेरिका से भी रणनीतिक साझेदारी वाली दोस्ती थी।

ऐसे में भारत ने रूस के हमले की निंदा तो की लेकिन वोटिंग से परहेज किया। उसके साथ चीन और यूएई ने भी वोटिंग से परहेज ही(UNSC-resolution-condemning-Russia-India-China-and-UAE-abstain-know-who-voted against)रखा।

Russia-Ukraine War:पीएम मोदी ने पुतिन से की बात-रूस-यूक्रेन युद्ध-हिंसा को रोकने की अपील

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में भारत ने क्या कहा?-India at UNSC on Russian invasion

संयुक्त राष्ट्र में भारत(India)के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने भारत की तरफ से पक्ष रखा। उन्होंने कहा- सभी सदस्य देशों को रचनात्मक तरीके से आगे बढ़ने के लिए इन सिद्धांतों का सम्मान करने की आवश्यकता है।

मतभेदों और विवादों को निपटाने के लिए बातचीत ही एकमात्र रास्ता है, हालांकि इस समय वह कठिन लग सकता है। यह खेद की बात है कि कूटनीति का रास्ता छोड़ दिया गया। हमें उस पर लौटना होगा।

इन सभी कारणों से भारत ने इस प्रस्ताव पर परहेज करने का विकल्प चुना है।

Ukraine Russia Crisis-Indian Embassy Ukraine advisory for Indian nationals to leave Ukraine
भारतीय दूतावास की भारतीयों को यूक्रेन छोड़ने की एडवाइजरी

 

भारत ने यूक्रेन हमले पर जताई चिंता

यूक्रेन में हाल(Russia-Ukraine War)के घटनाक्रम से भारत बहुत चिंतित है। हम आग्रह करते हैं कि हिंसा और शत्रुता को तत्काल समाप्त करने के लिए सभी प्रयास किए जाएं। मानव जीवन की कीमत पर कभी भी कोई समाधान नहीं निकाला जा सकता है।

हम भारतीय समुदाय के कल्याण और सुरक्षा के बारे में भी बहुत चिंतित हैं, जिसमें यूक्रेन में बड़ी संख्या में भारतीय छात्र भी शामिल हैं।

Ukraine-Russia War Live:तबाही का खूनी खेल जारी,यूक्रेन के 40 सैनिक,10 नागरिकों की मौत,रूस की फौजें यूक्रेन की राजधानी की ओर बढ़ रही

 

रूस के खिलाफ किस-किसने वोट किया और किसने पक्ष में ?

UNSC-resolution-condemning-Russia-India-China-and-UAE-abstain-know-who-voted against

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत, चीन और यूएई ने तो वोटिंग से परहेज कर लिया। वहीं रूस से उसके खिलाफ लाए जा रहे प्रस्ताव को ‘ना’ कह दिया।

रूस के संयुक्त राष्ट्र दूत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के मसौदे के प्रस्ताव को ‘रूस विरोधी’ बताया।

 

 

रूस के खिलाफ वोट डालने वाले देश-Countries who voted against Russia in UNSC

वहीं रूस के खिलाफ लाए गए प्रस्ताव पर अमेरिका, यूके, फ्रांस, नॉर्वे, आयरलैंड, अल्बानिया, गबोन, मैक्सिको, ब्राजील, घाना और केन्या जैसे देशों ने मुहर लगा दी।

 

UNSC-resolution-condemning-Russia-India-China-and-UAE-abstain-know-who-voted against

Show More

Sonal

सोनल कोठारी एक उभरती हुई जुझारू लेखिका है l विभिन्न विषयों पर अपनी कलम की लेखनी से पाठकों को सटीक जानकारी देना उनका उद्देश्य है l समयधारा के साथ सोनल कोठारी ने अपना लेखन सफ़र शुरू किया है l विभिन्न मीडिया हाउस के साथ सोनल कोठारी का वर्क एक्सपीरियंस 5 साल से ज्यादा का है l

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button